मालवाड़ा के ग्रामीणो मे पानी के लिए रोष, मटकियां फोड़कर जताया गुस्सा - Do Kadam Ganv Ki Or

Do Kadam Ganv Ki Or

पढ़े ताजा खबरे गाँव से शहर तक

Recent Tube

test banner

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

28 मई 2017

मालवाड़ा के ग्रामीणो मे पानी के लिए रोष, मटकियां फोड़कर जताया गुस्सा

@ प्रकाश राठौड़

जालोर।
मालवाड़ा। वार्ड संख्या तीन, चार, पांच व छः में पानी कि नियमित सप्लाई नही होने से मोहल्लेवासीयो को परेशानी का सामना करना पड रहा है। कस्बे के नागेश्वर रोड, हनुमान मंदिर, जीनगरो का वास, रानीवाड़ा रोड, मंज्जिद गली सहित अनेक मोहल्लो में करीब एक सप्ताह से पानी की नियमित सप्लाई नही होने से सभी मोहल्ले वाले परेशान है। ग्रामीण टैकरो से पानी मंगवाने के लिए मजबुर हो रहे है। इन पानी के टेकरो की किमती चार सौ से पांच सौ रूपये है।


महिलाओ ने मटकीया फोड़ी
मोहल्ले कि समस्त महिलाओ ने एक होकर जलदायक विभाग जाकर मटकीया फोड रोष प्रकट कर कर्मचारी से पानी के बारे में बात कि उनका एक ही जवाब था जल्दी ही पानी की सप्लाई कर दी जायेगी। जबकि जलदायक विभाग के कर्मचारी का दुरभाष नम्बर स्थाई नही होने के कारण भी लोगो को परेशानी का सामना करना पड रहा है। 

महिलाओ ने उपसरपंच का घेराव किया
जलदायक विभाग के सामने से जाते हुए उपसरपंच को भी महिलाओ ने घेराव कर उन्हे भी पानी कि समस्या से अवगत करवाया गया। उपसरपंच कल्याणसिह देवल ने महिलाओ कि समस्या सुनकर जलदायक विभाग को तुरन्त पानी कि सप्लाई शुरू करवाने को कहा गया।


महिलाए भी परेशान
इन गर्मी के दिनो में महिलाए भी पानी लाने के लिए दुर दुर जाकर प्याउ से घडो में पानी ला लाकर परेशान होकर थक जाती है। फिर भी कही महिलाए तो दोपहर में भी पानी लाने के लिए इन गर्मी में मजबुर है शोभा देवी महिलाए ने बताया कि हमारे परिवार में आठ लोग है हमें प्रतिदिन 500 लीटर पानी की आवश्यता होती है पर जलदायक विभाग कि ओर से नियमित पानी नही आने से इस गर्मी में तो बिन पानी का हाल बैहाल हो रहा है।                             

इनका कहना हैहमने कही बार जलदाय विभाग को सुचना दी और आज हम सब मोहल्लेवालो ने जलदायक विभाग जाकर कर्मचारी से बात कि फिर भी कोई सन्तुष्ठ जवाब नही मिला।-सोनल कंवर वार्डपंच वार्ड संख्या 4 ग्राम पंचायत मालवाड़ा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages