महिला ने घायल मादा हरिण की जान बचाई - Do Kadam Ganv Ki Or

Do Kadam Ganv Ki Or

पढ़े ताजा खबरे गाँव से शहर तक

Recent Tube

test banner

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

14 मई 2017

महिला ने घायल मादा हरिण की जान बचाई

बाड़मेर/धोरीमन्ना। उपखंड के मिठड़ा खुर्द मे लोलो की बेरी सरहद खिचड़ो की ढाणी के पास देर रात साढ़े दस बजे आवारा श्वानो के झुंड ने जाली मे फंसने के बाद मादा हरिण को नोंच रहे थे। हरिण चित्कार सुनकर नजदीक महिला कमलादेवी विश्नोई ने घर से दोड़ लगाई, वह श्वानो को भगाकर हरिण को बाहर निकाला। ओर घटना की सूचना वन्यजीव प्रेमीयो को दी। जानकारी मिलने के बाद वन्यजीव प्रेमी भंवरलाल विश्नोई, बाबूलाल खिचड़, भजनलाल खिचड़, गोरखाराम चौधरी मौके पर पहुंच कर घटना की सूचना धोरीमन्ना वन विभाग को दी। इस पर कर्मचारीयो रात्रि गाड़ी उपलब्ध नही होने पर रेस्क्यू करने मना कर दिया। बाद मे वन्यजीव प्रेमीयो ने भाजपा जिला उपाध्यक्ष ओर जम्भेश्वर जीवरक्षा पर्यावरण संस्थान के जिला अध्यक्ष जयकिशन भादू को फोन कर घटना से अवगत कराया लेकिन कोई मदद नही मिल पाई।

ऐसे मिला इलाज
मौके पर तड़प रही मादा हरिण को रेस्क्यू करने से इनकार करने के बाद मामला विश्नोई टाईगर फोर्स सुप्रीमो रामपाल भवाद तक पहुंच गया। बाद मे बाड़मेर उपवन संरक्षक को घटना से अवगत करवाकर रामपाल भवाद ने विभाग कर्मचारी के प्रति नाराज़गी जताई, ओर दोषी कर्मचारीयो के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। बाद मे वन्यजीव प्रेमीयो ने मौके पर निजी गाड़ी बुला कर मादा हरिण को लेकर रात को ठीक साढ़े बारह बजे धोरीमन्ना रेस्क्यू सेन्टर पहुचे। आधा घंटा इन्तजार के बाद विभाग मे एक कर्मचारी पहुंचा ओर वन्यजीव प्रेमीयो को से धमकाने लगा ओर कहा रात के समय क्यो परेशान कर रहे हो कर्मचारी अभद्र व्यवहार से खफा वन्यजीव प्रेमी भंवरलाल विश्नोई की बीच तकरार हुई। बाद मे वन्यजीव प्रेमीयो ने घायल मादा हरिण को लेकर अनशन पर बैठने की चेतावनी दी तो बाद कर्मचारी ने पशु चिकित्सक घर ले जाकर घायल हरिण का उपचार करवाया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages