समदड़ी। खाखरलाई में झुंझार जी महाराज मंदिर में मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा आज - Do Kadam Ganv Ki Or

Do Kadam Ganv Ki Or

पढ़े ताजा खबरे गाँव से शहर तक

Recent Tube

test banner

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

18 अप्रैल 2017

समदड़ी। खाखरलाई में झुंझार जी महाराज मंदिर में मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा आज

  • वैदिक मंत्रोचार के साथ यजमानों ने दी आहुतियां
  • झुंझार जी महाराज मंदिर में मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा आज 
  • धार्मिक अनुष्ठानों की बोलियों में भक्तों ने दिखाया उत्साह

@ राजेश भाटी

बाड़मेर/ समदड़ी। क्षेत्र के खाखरलाई नगरी धुंबड़ी बेरा पर झुंजार जी हेमाराम महाराज के नवनिर्मित मंदिर में मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव बुधवार को उत्साह व उमंग के साथ धूमधाम से संपन्न होगा। महोत्सव को लेकर साधू संतो के सानिध्य में चल रहे धार्मिक कार्यक्रमों में क्षेत्र के भक्त भक्ति श्रद्धा के साथ बढ़-चढ़कर भाग ले रहे हैं। पांच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के दौरान राजाराम आश्रम शिकारपुरा के दयाराम महाराज, अंजनी माता जी धाम चेंडा पाली की साध्वी भगवती बाई, कनाना मठ के मठाधीश श्री महंत परशुरामगिरी महाराज, सडला नाड़ा मामाजी मंदिर के गादीपति भूराराम महाराज, अंजनी माता जी धाम चेंडा पाली के पदमाराम महाराज, माताजी मंदिर मैली के भोपाजी रुपनराम महाराज शिरकत करेंगे।
भक्त पीराराम ने बताया कि मंदिर परिसर में चल रहे यज्ञ में लाभार्थी परिवार विधान पंडितों के वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ यज्ञबदी में आहुतियां देकर सुख समृद्धि व क्षेत्र की खुशहाली की कामना कर रहे हैं। इस अवसर पर पूर्व सरपंच भवन सिंह जेठंतरी, मगाराम टेडा, शंभू सिंह सोनगरा, धनपुरी गोस्वामी, राजेश सैन, सुरेश, गौतम सैन, कानाराम साईं, जगदीश सैन, अंबाराम टोटियां सहित सैकड़ों महिला-पुरुष युवक-युवतियां बच्चे बुजुर्ग उपस्थित रहे।


जल यात्रा में उमड़ा उल्लास 
पांच दिवसीय मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के उपलक्ष में जल यात्रा निकाली गई, जिसमें श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ा। जल यात्रा में सबसे आगे 151 बालिका सिर पर मंगल कलश लेकर चल रही थी। इसके बाद भजन मंडलियों पर मशहूर गायक सुमधुर भजनों की प्रस्तुति देकर धर्म की छटा बिखेर रहे थे। युवक-युवतियां DJ की धुन पर सुमधुर भजनों की स्वरलहरियों पर नाचते नजर आ रहे थे। जल यात्रा मंदिर परिसर से रवाना होकर गांव के मुख्य मार्ग से होते हुए मंदिर परिसर में आकर धर्म सभा में तब्दील हो गई।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages