जेसलमेर के सम की तरह पंसेरी के धोरो में दिखने लगी पर्यटको की रोनक - Do Kadam Ganv Ki Or

Do Kadam Ganv Ki Or

पढ़े ताजा खबरे गाँव से शहर तक

Recent Tube

test banner

Breaking

Home Top Ad

Responsive Ads Here

Post Top Ad

Responsive Ads Here

21 जनवरी 2017

जेसलमेर के सम की तरह पंसेरी के धोरो में दिखने लगी पर्यटको की रोनक

@ प्रकाश राठौड़

जालोर/मालवाड़ा। निकटवर्ती पंसेरी गाव के निलकंठ महादेव मंदिर के पास पंसेरी के धोरो में इन दिनो रोनक देखते ही बनती हैं। दस किलोमीटर क्षेत्र में फैले रेतीले धोरों में अब पर्यटक केमल सफ़ारी का लुफ्त उठा रहे हैं। पंसेरी गाँव की मुख्य सड़क से करीब 3 किलोमीटर दुर जाकर जेसलमेर के सम की तरह रेतीले धोरो को निहारा जा सकता हैं।
विधायक नारायणसिंह देवल की पहल पर वन विभाग व पंसेरी वन चेतना केन्द्र की और से हाल ही में इन धोरो में केमल सफ़ारी शुरू की गई हैं। उल्लेखनीय हैं की थार के रेगिस्तान की तरह आने वाले इन धोरो मे भी घुटनो तक पैर चले जाते हैं, जबकी सुनहरी रेत व ऊचे-ऊंचे टीले पर्यटको को मरुस्थल में होने का अहसास कराते हैं। इन धोरो से थोड़ी ही दूरी पर वर्षा ऋतु के मौसम मे बहने वाली छोटी सी नदी और तलहटी मे छाई हरियाली पर्यटको को एक ही जगह नखलिस्तान का आभास कराती हैं। धोरो पर चढ़ने के साथ ऊँट की पर बेठे पर्यटको को सुंधा पर्वत की हरियाली से घिरी सबसे ऊँची चोटी का नजारा पर्यटकों को एक अलग ही अनुभव करवाता हैं। ज्ञात रहे जसवंतपुरा स्थित सुंधामाता  मंदिर मे बारह महीने देशभर से श्रध्दालुओ का आना-जाना लगा रहता हैं। श्रध्दालु माता के दर्शन के साथ खोडेस्वर की पहाडियों से बहने वाले झरने तथा भालू अभ्यारण काफी आकर्षित करता हैं, ऐसे मे पंसेरी के धोरे पर्यटन के एक नये अध्याय को जोड़ रहे हैं। अब कलाकारों को भी रास आने लगे ये धोरे कूछ ही दिनो पहले माघ स्टूडियो द्वारा तैयार हुए राजस्थानी वीडियो एलबम पधारो मारा देश के सारे सीन इन्ही धोरो मे फ़िल्माये गये थे। ज्ञात रहे की कूछ दिनो पहले गुजराती कलाकार विक्रम ठाकुर और उनकी टीम भी शूटिंग के सिलसिले मे सरपंच दिलीपसिंह से बात कर चुके हैं।

एक तरफ़ धोरे दुसरी तरफ़ हरियाली
पंसेरी के समीप जहा एक और दस किलोमीटर क्षेत्र मे रेतीले धोरे हैं, वही यही से पर्यटक ऊँट की सवारी करते हुए सुंधा पर्वत की हरियाली भी निहार सकते हैं।


जालोर जिले के पर्यटन क्षेत्र मे नया अध्याय जुड़ेगा 

अभी पर्यटको की आवाजाही देख कर लगता हैं, क्षेत्र मे पर्यटन की अपार सम्भावनाए हैं। अब पंसेरी के धोरो मे केमल सफ़ारी शुरू होने से आने वाले दिनो मे पर्यटन के साथ स्थानीय  रोजगार के नये आयाम खुलेगें। अभी पक्की सड़क का निर्माण शुरू हैं, आने वाले दिनो में और भी कई प्रकार की व्यवस्था को किया जायेगा।-सरपंच दिलीपसिंह देवल पंसेरी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages